Monday, 3 April 2017

तुम

तुम
सिर्फ तुम
तुम को कभी देखा नही
वो भी नही
जिसको तुम समझते हो
तुम मेरी समझ से भी परे हो
तुम ही सृष्टि तुम ही दृष्टि
तुम ही राधा तुम मीरा
तुम ही भक्ति तुम ही शक्ति
तुम ही मन्दिर तुम मूरत
तुम जग में तुम जीवन में
तुम अगम अगोचर
तुम में प्रेम तुम प्रीतम
तुम में अंत तुम में आगाज
तुम ही रात तुम प्रभात
मैं से तू तक
का सफर 
मैं को खोया तुम को पाया
तुम ही
मंजिल
तुम ही
मुसाफिर ..........
तुम ही तुम को तुम से मिलने आया
तो बस ये ही समझ आया
खाली हाथ  तब तेरा साथ
उतना सफर आसान जितना कम समान
तो फिर अब

धड़कन दिल की संगीत हो

मरना यार के लिए इक प्रीत हो

तुम ही याद तुम ही फरियाद
सफर..............खत्म । shaad

No comments:

Post a Comment